दुनिया का सबसे बड़ा मंदिर कौन सा है-2022 जनिये

Duniya ka sabse bada mandir– दुनिया में विभिन्न धर्म के लोग रहते हैं, जैसे ईसाई, मुस्लिम, हिंदू आदि। इन सबके अलग अलग धार्मिक स्थल होते हैं, जैसे ईसाइयों का धार्मिक स्थल चर्च, मुस्लिमों का मस्जिद, सिक्खों का गुरुद्वारा। वैसे ही हिंदुओं का धार्मिक स्थल मंदिर होता है। पूरे विश्व में अनेक छोटे बड़े मंदिर है। प्राचीन समय से ही विभिन्न स्थानों पर अनेक मंदिरों का निर्माण किया गया है। इनमें से कई मंदिर आज भी अपनी वास्तुशिल्पता, कलाकारी, आकृति और विशालता के लिए विश्वभर में प्रसिद्ध है। 

तो दोस्तों ऐसे में विश्व का सबसे बड़ा मंदिर कहाँ है यह जानने की इच्छा सबके मन में होती होगी। आज के इस आर्टिकल से आप सबको Duniya ka sabse bada mandir की जानकारी होगी। 

दुनिया का सबसे बड़ा मंदिर कौन सा है:-Duniya ka Sabse Bada Mandir

क्रमसंख्या मंदिरों के नाम तथा उनकी स्थापित जगह
1अंकोरवाट मंदिर (कंबोडिया) 
2स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर (न्यू जर्सी, अमेरिका)
3श्री रंगनाथस्वामी मंदिर (तमिलनाडु)
4श्री राम मंदिर (उत्तर प्रदेश)
5छतरपुर मंदिर (दिल्ली)
6अक्षरधाम मंदिर (दिल्ली)
7बेसाकी मंदिर (इंडोनेशिया)
8बेलूर मठ (पश्चिम बंगाल)
9थिल्लई नटराज मंदिर (तमिलनाडु)
10प्रम्बानन (त्रिमूर्ति मंदिर)

आइए विस्तार ने जानते हैं इन मंदिरों के बारे में:- 

1. अंकोरवाट मंदिर (कंबोडिया)

इस लिस्ट में सबसे पहला नाम अंकोरवाट मंदिर का आता है। 

दुनियाँ का सबसे विशाल और बड़ा मंदिर अंकोरवाट मंदिर है। यह कंबोडिया देश के अंकोर में स्थित है। 

इसका पुराना नाम यशोधरपुर था। इस मंदिर को 12 वीं शताब्दी में खमेर राजा सूर्यवर्मन द्वितीय ने बनवाया था। 

यह मंदिर 402 एकड़ जमीन पर फैला हुआ है।

वर्तमान समय में कंबोडिया में मात्र 0.3 प्रतिशत आबादी हिंदूओं की है। अंकोरवाट मंदिर मुख्य रूप से भगवान विष्णु का मंदिर था लेकिन बाद में यह एक बौद्ध परिसर बन गया। इस मंदिर में बलुआ पत्थर से बनी भगवान विष्णु की 3.2 मीटर ऊंची प्रतिमा भी स्थापित है। मंदिर के बीच में 65 मीटर ऊंचा एक टावर स्थित है, जो चार छोटे टॉवरों से घिरा हुआ है।

इस भव्य मंदिर के दर्शन के लिए हर साल यहाँ हजारों की संख्या में पर्यटक आते हैं। इस मंदिर को मेरू पर्वत का रूप दिया गया है। यह मेरू पर्वत कई भगवानों का निवास स्थान हुआ करता था। 

2. स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर (न्यू जर्सी, अमेरिका)

इस लिस्ट में दूसरा सबसे बड़ा मंदिर स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर है। 

स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर अमेरिका के न्यू जर्सी में स्थित है। इस मंदिर को स्वामीनारायण संस्था के द्वारा स्थापित किया गया था। यह करीब 163 एकड़ जमीन में फैला हुआ है। क्षेत्रफल के दृष्टि से यह विश्व का तीसरा सबसे बड़ा मंदिर है। इस मंदिर के निर्माण में 1000 करोड़ रुपए की लगता आई थी। मंदिर को साल 2014 में दर्शन के लिए खोला गया था। 

3. श्री रंगनाथस्वामी मंदिर (तमिलनाडु)

विश्व का तीसरा सबसे बड़ा मंदिर भारत के तमिल नाडु में स्थित श्री रंगनाथस्वामी मंदिर है। यह मंदिर भारत के तमिलनाडु राज्य के तिरूचिरापल्ली शहर में स्थित है। यह मंदिर भारत का सबसे प्राचीन मंदिर भी माना जाता है। इस मंदिर का निर्माण 8वीं या 9वीं शताब्दी के दौरान किया गया था। यह मंदिर लगभग 156 एकड़ में फैला हुआ है। यह मंदिर भगवान विष्णु जी को समर्पित है। इस मंदिर के प्रमुख द्वार को राजगोपुरम कहा जाता है। मंदिर का मुख्य द्वार राजगोपुरम 236 फिट ऊंचा है। यह एशिया का दूसरा सबसे ऊंचा मंदिर का टावर है। इस मंदिर में 21 मीनार और 39 मंडप है। 

4. श्री राम मंदिर (उत्तर प्रदेश)

भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित श्रीराम मंदिर दुनिया का चौथा और भारत का दूसरा सबसे बड़ा मंदिर है। इस मंदिर की भूमि को लेकर अनेक वर्षों तक विवाद चलता रहा। अन्त में 5 अगस्त 2020 को भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में इस मंदिर का भूमि पूजन किया गया था। यह मंदिर करीब 108 एकड़ भूमि में फैला हुआ है। इस मंदिर में कुल 5 शिखर है, जिनमे सबसे ऊंचा शिखर 161 फिट ऊँचा बनाया गया है।

5. छतरपुर मंदिर (दिल्ली)

इस लिस्ट में छतरपुर मंदिर पाँचवे स्थान पर है। यह मंदिर भारत की राजधानी नई दिल्ली में स्थित है। 

इस मंदिर को सन् 1974 में बाबा संत रामपाल जी के द्वारा बनवाया गया था। यह मंदिर लगभग 70 एकड़ में फैला हुआ है। इस मंदिर में 101 फिट ऊँची हनुमान जी मूर्ति है। जो अत्यंत ही आकर्षक, मनमोहक और दर्शनीय है। मंदिर को पूरी तरह से संगमरमर के पत्थरों से बनाया गया है। वैसे तो यह सिर्फ एक ही मंदिर है लेकिन इस मंदिर के प्रांगण में कई  मंदिरों का समूह है। यह मंदिर देवी कात्यायनी को समर्पित है।

6. अक्षरधाम मंदिर (दिल्ली)

इस लिस्ट में दिल्ली का अक्षरधाम मंदिर छठे स्थान पर  है। इस मंदिर का निर्माण साल 2005 में स्वामी नारायण संस्था द्वारा किया गया था। यह मंदिर लगभग 59 एकड़ में बनाया गया है। करीब 3,000 स्वयंसेवकों और 7,000 कारीगरों ने मिलकर इस मंदिर को बनाया था। इस मंदिर को 26 दिसंबर 2007 में दुनियाँ का सबसे विशाल हिंदू मंदिर के लिए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल किया गया था।

7. बेसाकी मंदिर (इंडोनेशिया)

इस लिस्ट में बेसाकी मंदिर सातवें स्थान पर है। यह मंदिर इंडोनेशिया के बाली में स्थित है। इस मंदिर को छह हिस्सों में बनाया गया है। यह हिस्से एक सीढ़ीनुमा ढलान की तरह बने हुए है। यह मंदिर लगभग 49 एकड़ भूमि में बना हुआ है। यहां बालनी मंदिरों की एक पूरी श्रृंखला है। यह मंदिर बाली के हिंदू धर्म का सबसे बड़ा मंदिर है। 

8. बेलूर मठ (पश्चिम बंगाल)

बेलूर मठ मंदिर दुनियाँ में सबसे बड़े मंदिरों में आठवें स्थान पर है। यह मंदिर पश्चिम बंगाल के हावड़ा के पास स्थित है। स्वामी विवेकानंद द्वारा 1935 ईसवी में इस मंदिर निर्माण की स्थापना की गयी थी। यह मंदिर लगभग 40 एकड़ में फैला हुए है। इस मंदिर को रामकृष्ण परमहंस के मुख्यालय के रूप में भी जाना जाता है। यह मंदिर हुगली नदी के पश्चिमी तट पर बना हुआ है।

9. थिल्लई नटराज मंदिर (तमिलनाडु)

विश्व के सबसे बड़े मंदिरों में थिल्लई नटराज मंदिर नवें स्थान पर है। यह भारत के तमिलनाडु राज्य के चिंदबरम नगर में स्थित है। इसलिए इस मंदिर को चिदम्‍बरम मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। लगभग

40 एकड़ जमीन में फैला हुआ यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। इस मंदिर में भगवान विष्णु, गणेश और अन्य देवी देवताओं की भी मूर्ति है। यहाँ भगवान शिव के नटराज स्वरूप की प्रतिमा का अलौकिक दर्शन मिलता है। इस मंदिर में पूरे 9 द्वार बनाए गए है। इस मंदिर का निर्माण 10वीं शताब्दी के आस पास किया गया था।

10. प्रम्बानन (त्रिमूर्ति मंदिर)

इस लिस्ट में प्रम्बानन (त्रिमूर्ति मंदिर) दसवें स्थान पर है। यह मंदिर इंडोनेशिया के मध्य जावा क्षेत्र में स्थित है। यहाँ पर ब्रम्हा, विष्णु और महेश तीनों भगवन की मूर्तियाँ स्थापित होने के कारण से इस मंदिर को प्रम्बानन त्रिमूर्ति मंदिर कहा जाता है। इस मंदिर का निर्माण 9वीं शताब्दी में किया गया था। यह मंदिर लगभग 38 एकड़ में फैला हुआ है। यह लोकप्रिय पर्यटक और तीर्थस्थल माना जाता है।

निष्कर्ष

अक्सर लोगों को ऐसा लगता है कि दुनियाँ का सबसे बड़ा मंदिर भारत में ही होगा, क्योंकि सबसे ज्यादा हिंदू आबादी भारत में निवास करती है। भारत को मंदिरों का देश कहा जाता है। इस देश में दूसरे देशों की तुलना में बहुत अधिक मंदिर हैं। दुनियाँ में अनेक बड़े मंदिर हैं जो अपने वास्तुशिल्प, अद्भुत कलाकारी और विशालता के लिए जाने जाते हैं। प्राचीन काल में बनाए गए इन मंदिरों की कलाकारी देखकर ऐसा प्रतीत होता है जैसे इन्हें आधुनिक काल के मशीनों द्वारा बनाया गया हो। 

जब  दुनियाँ के सबसे बड़े मंदिर की बात होती है तो ज्यादातर लोगों को लगता है कि यह भारत में ही होगा परन्तु ऐसा नहीं है। भले ही दुनियाँ में सबसे ज्यादा मंदिर भारत में है लेकिन बड़े मंदिर की तुलना में भारत तीसरे स्थान पर आता है। दुनियाँ का सबसे बड़ा कंबोडिया देश में स्थित अंकोरवाट मंदिर है। यह मंदिर 402 एकड़ जमीन में फैला हुआ है। इस मंदिर का निर्माण 12वीं सताब्दी में राजा सूर्यवर्मन द्वितीय ने किया था।

Leave a Comment