चंद्रमा पर कौन-कौन गया है | Chand Par kon kon gaya hai

Chand Par kon kon gaya hai-इंसान का चंद्रमा की सतह पर पहला कदम – लगभग 50 वर्ष पहले बहुत प्रयासों के बाद कोई इंसान चंद्रमा पर पहला कदम रखने में सफल हुआ।NASA (द नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन) ने मानवयुक्त चंद्र लैंडिंग मिशन मे अंतरिक्ष यात्री  को अपोलो 11 मिशन के तहत भेजा गया।अपोलो संयुक्त राज्य अमरीका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा की मानव उड़ानो की एक श्रंखला थी जिसमें सैटर्न 5 राकेट और अपोलो यानो का प्रयोग किया गया था।

पहले चंद्रमा पर अपोलो के कुल 11 मिशन में 27 अंतरिक्ष यात्री चांद तक पहुंचे थे जिनमें से केवल 24 ने चांद का चक्कर लगाया था। अपोलो 11 की शुरुआत से केवल 12 लोगों ने अभी तक चंद्रमा की सतह पर कदम रखे हैं।चांद पर कदम रखने वाले अंतरिक्ष यात्री के नाम-

चंद्रमा पर कौन-कौन गया है ( Chand Par kon kon gaya hai) यात्री का नाम मिशन का नाम दिनांक

यात्री का नाममिशन का नामदिनांक
नील आर्मस्ट्रांग अपोलो 1120 जुलाई सन् 1969
बाज एल्ड्रिनअपोलो 1120 जुलाई सन् 1969
पीट कॉनराड अपोलो 1219-20 नवंबर सन् 1969
एलन बीनअपोलो 1219-20 नवंबर सन् 1969
एलन शेपर्ड अपोलो 145-6 फरवरी सन् 1971
एडगर मिशेलअपोलो 145-6 फरवरी सन् 1971
डेविड स्कॉट अपोलो 1531 जुलाई से 2 अगस्त सन् 1971
जेम्स इरविनअपोलो 1531 जुलाई से 2 अगस्त सन् 1971
जॉन यंग अपोलो 16 21 से 23 अप्रैल सन् 1972
चार्ल्स ड्यूक अपोलो 1721 से 23 अप्रैल सन् 1972
यूजीन सेरनन अपोलो 17 11 से 14 दिसंबर सन् 1972
हैरिसन श्मिट अपोलो 17 11 से 14 दिसंबर सन् 1972

(Chand Par kon kon gaya hai) चंद्रमा की सतह पर जाने वाली मिशन का नाम और उन में जाने वाले यात्रियों की जानकारी और विशेष घटनाओं के बारे में इस लेख से हम जानेंगे-

Read Also-ग्लोबल वार्मिंग क्या है

अपोलो 11- नील आर्मस्ट्रांग (Neil Armstrong) / बाज एल्ड्रिन ( Buzz Aldrin)

नील आर्मस्ट्रांग (Neil Armstrong) और बाज एल्ड्रिन ( Buzz Aldrin) 20 जुलाई 1969 को अपोलो 11 मे साथ अन्तरिक्ष गए। 

यह चंद्रमा की सतह पर उतरने वाला पहला मिशन था।

दुनिया के पहले व्यक्ति हैं जो चांद पर पहला कदम रखा। इंसान का एक छोटा सा कदम ,मानवता की एक लंबी छलांग नील आर्मस्ट्रांग चांद पर कदम रखने के बाद यह शब्द नहीं थे।

बाज एल्ड्रिन ( Buzz Aldrin) चांद पर कदम रखने वाले दूसरे व्यक्ति बन गए ।

नील आर्मस्ट्रांग और बाज एल्ड्रिन दोनों ने चंद्रमा की सतह पर ही 2 घंटे 31 मिनट तक extra curricular activity यानी moonwalk की थी|

अपोलो 12-पीट कॉनराड (Pete Conrad) /एलन बीन (Alan Bean)

अपोलो 11 के 4 महीने बाद अपोलो 12 मिशन लॉन्च किया गया था। यह चंद्रमा की सतह पर उतरने वाला दूसरा मिशन था।

पीट कॉनराड (Pete Conrad) और एलन बीन (Alan Bean) इस मिशन में चंद्रमा की सतह पर उतरे। दोनों ने चांद की सतह पर 7 घंटे 45 मिनट का समय बताएं बिताया। वह चांद की सतह पर पहला टेलीविजन कलर कैमरा लेकर गए थे लेकिन एलन बीन की गलती से केमरा खराब हो गया और ट्रांसमिशन टूट गया।

अपोलो 13-

 यह चंद्रमा की सतह मे उतरने में असफल और उस मिशन में गए हुए अंतरिक्ष यात्रियों को सफलतापूर्वक वापस लाने वाला एक सफल असफल मिशन था। इसमे चांद की ओर जाते समय ओपोलो सर्विस मॉड्यूल के ऑक्सीजन टैंक टूट गया था इसलिए इस कार्यक्रम को वहीं रोकना पड़ा ।नासा ने एक रेस्क्यू मिशन बनाया।आखिरकार नासा अपने अंतरिक्ष यात्रियों को बचाने में सफल हुआ।

अपोलो 14-एलन शेपर्ड (Alan Shepard) / एडगर मिशेल (Edgar Mitchell)

यह चंद्रमा की सतह पर सफलतापूर्वक उतरने वाला तीसरा मिशन था।

एलन शेपर्ड (Alan Shepard) और एडगर मिशेल (Edgar Mitchell) ने चंद्रमा की सतह पर कदम रखा।

इस मिशन की सबसे रोचक बात यह थी की एलन शेपर्ड ने चंद्रमा की सतह पर गोल्फ खेला।

अपोलो 15-डेविड स्कॉट (David Scott) /जेम्स इरविन (James Irwin)

यह चंद्रमा की सतह पर सफलतापूर्वक वाला उतरने वाला चौथा मिशन था।

डेविड स्कॉट (David Scott) और जेम्स इरविन (James Irwin) ने इस मिशन के दौरान चंद्रमा की सतह पर कदम रखा।इस मिशन के दौरान ही पहला (lunar rover vehicle) चंद्रमा पर चलने वाला वाहन का उपयोग किया गया।डेविड स्कॉट ने इसे चलाया और जेम्स इरविन  इस वाहन में पीछे बैठे।कुल 18 घंटे 33 मिनट का समय यान से बाहर बिताया।

अपोलो 16-जॉन यंग (John Young) /चार्ल्स ड्यूक (Charles Duke)

चंद्रमा की सतह पर सफलतापूर्वक उतरने वाला यह पांचवा मिशन था।

जॉन यंग (John Young) और चार्ल्स ड्यूक (Charles Duke) ने मिशन के दौरान चंद्रमा की सतह पर सफलतापूर्वक अपने कदम रखें।इनकी Extra curricular activities या Moonwalk की अवधि 20 घंटे 14 मिनट की थी।इस दौरान उन्होंने कई प्रयोग किए और 95.8 Kg Sample इकठ्ठा करके चंद्रमा की सतह से लेकर वापस भी आए।

अपोलो 17- हैरिसन श्मिट (Harrison) / यूजीन सेरनन (Eugene Cernan)

यह मिशन अभी तक का चंद्रमा की सतह पर उतरने वाला नासा की ओर से आखरी मिशन था।हैरिसन श्मिट (Harrison) और यूजीन सेरनन (Eugene Cernan) इस मिशन में चंद्रमा की सतह पर उतरने वाले अंतिम व्यक्ति 3 दिनों तक चंद्रमा की सतह पर है राही रहे। इस दौरान उन्होंने चंद्रमा की सतह से सैंपल लेकर बहुत सारी वैज्ञानिक प्रयोग भी किए।

केवल अपोलो 17 ही एकमात्र ऐसा मिशन है जिसमें किसी भी अंतरिक्ष यात्री को नहीं ले जाया गया था। इसमें केवल परीक्षण पायलट ही शामिल थे।यूजीन सेरनन चंद्रमा पर उतरने वाले अभी तक के अंतिम व्यक्ति थे।

अब यह प्रश्न उठता है कि पृथ्वी से चंद्रमा में पहुंचने पर के लिए कितना समय लगता है? 

इसके लिए हमें यह जानना जरूरी है की चंद्रमा पृथ्वी के चारों ओर अंडाकार पथ पर परिक्रमा करता है चंद्रमा और पृथ्वी की दूरी हर 27 दिन में बदल जाती है।

पृथ्वी से चंद्रमा में पहुंचने मे कितना समय लगेगा यह इन चीजों से निर्धारित होता है कि रॉकेट का प्रकार, पृथ्वी और चंद्रमा के बीच की दूरी और अंतरिक्ष यान द्वारा उड़ान पथ आदि । पृथ्वी से चंद्रमा पर पहुंचने के लिए लगभग 6 से 7 दिनों का समय लगता है। 

अब आप सोच रहे होंगे कि इतने समय से नासा ने चंद्रमा पर किसी अंतरिक्ष यात्री को उतरने के लिए क्यों नहीं भेजा गया।1972 मैं अंतिम बार किसी मिशन के तहत कोई इंसान अंतिम बार चांद की सतह पर उतरा था।काफी समय से किसी अंतरिक्ष यात्री चाँद पर सफर इसलिए नहीं किया क्योंकि इसमें पैसों की लागत बहुत अधिक होती है और चांद की सतह पर उतरने के बाद भी वहा पर उनहे कोई ठोस तत्व या जानकारी भी प्राप्त नहीं हुई जो उसे दोबारा चांद की सतह पर जाने के लिए जिज्ञासु बनाएं।

नासा चंद्रमा की अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण मिशनओं पर कार्य कर रहा है इस पर वह आगे आने वाले समय पर क्रियान्वयन करेगा।

Leave a Comment

Your email address will not be published.