DPR Full Form in Hindi-डीपीआर क्या है ?

DPR Full Form in Hindi

DPR का पूरा नाम Detailed Project Report होता है एवं इसका हिंदी में DPR Full Form ‘विस्तृत परियोजना रिपोर्ट’ होता है। यह एक प्रकार का दस्तावेज होता है जिसमें अनुमोदन योजना बनाने की संपूर्ण जानकारी दी हुई होती है एवं ‘विस्तृत परियोजना रिपोर्ट’ की योजना बनाने एवं उस योजना को लागू करने के लिए आवश्यक सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज भी रहते हैं। चूंकि डीपीआर में  कंपनी में किए गए कार्य के लिए निवेश के संपूर्ण आंकड़ों को बताया जाता है, इस कारण से यह बहुत ही महत्वपूर्णर्भी होती है। इसके अलावा DPR में परियोजना से जुड़े सभी प्रकार के लेनदेन और खर्च एवं निवेश आदि का ब्यौरा संभाल के रखा जाता है। 

DPR Full Form

साधारण शब्दों में अगर हम कहें तो Customer के द्वारा किये गए  कार्य की विस्तृत कार्य रिपोर्ट  को किसी company के द्वारा जब तैयार किया जाता है तब वह Detailed Project Report कही जाती है। इस Detailed Project Report के अंदर उस project से जुड़ी सभी जानकारी जैसे कुल लेनदेन खर्च और निवेश आदि को संभाल के रख लिया जाता है।

DPR का मतलब और महत्व

चूंकि हम जानते हैं कि डीपीआर को विकसित करने के लिए हम किसी कार्य की संपूर्ण रिपोर्ट को तैयार करते हैं। डीपीआर का उपयोग हम Project से जुड़ी हुई जानकारियों के साथ-साथ किसी योजना के अनुकूलन एवं इसके महत्व को समझने के लिए उपयुक्त समय सीमा एवं विस्तृत लागत अनुमान आदि के लिए करते हैं। इसके अलावा DPR का महत्व विश्वसनीय गुणवत्ता, इष्टतम लागत, भुगतान अवधि और वापसी निवेश को स्पष्ट रूप से बताना, और प्रोजेक्ट में होने वाले कुल लेनदेन खर्चा आदि को दिखाने के लिए किया जाता है। DPR का एक लाभ यह भी है कि इससे Bank योग्यता में भी लाभ मिल जाता है।

DPR किसी Project की व्यापक और विस्तृत रूपरेखा होती है। किसी Project की संपूर्ण सामग्री और उस Project की योजना एवं Project designing का पूरा भाग एवं कार्य रिपोर्ट इसी के तहत तैयार की जाती है। Dpr Report में उस Project में उपयोग किए गए संसाधन और कार्य समय सीमा,  संबंधित कार्य की गणना और अन्य जानकारी दी हुई रहती है।

DPR की उपयोगिता

DPR आपके project को सफल बनाने में मदद करता है। DPR की उपयोगिता हम नीचे बता रहे है-

1.बजट का प्रबंधन – किसी भी Project के लिए बजट प्रबंधन आवश्यक होता है जिसके द्वारा Project का व्यय आधार निश्चित किया जाता है।

2.जोखिमों को कम करना – Project को सही रूप से कार्यरत रखने के लिए, Project में आने वाले सभी व्यवधानों को शुरुआत में ही खत्म कर देना चाहिए।

3.परियोजना प्रगति अनुवर्ती – Project के महत्वपूर्ण पहलुओं पर ध्यान रखते हुए कार्य बढ़ाना चाहिए।

4.Team Work- Project को चुनी गई team के Under ही कार्य करना चहिए।

DPR के महत्वपूर्ण बिन्दु

DPR के निम्नलिखित महत्वपूर्ण बिंदुओं को ध्यान में रखना चाहिए- 

  • Project समय अवधि के अंदर पूर्ण हो जाना चाहिए।
  • Project लागत को पहले से जांच रहना चाहिए
  • ग्राहक संतुष्टि को पहले प्राथमिकता देनी चाहिए
  • Project के नियम व शर्तों को लागू करना।

Latest Post-


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *