ECS Full Form in Hindi-ईसीएस क्या है?

ECS Full Form

आज का हमारा आर्टिकल ECS Full Form है। इस आर्टिकल में हम आपको ECS से संबंधित सभी जानकारी देंगे।

ECS Full Form क्या है?

ECS Full Form Electronic Clearing Service है। ECS का हिंदी अर्थ इलेक्ट्रॉनिक समाशोधन सेवा है।

ECS क्या है?

यह एक इलेक्ट्रॉनिक प्रणाली है जिसे एक बैंक के माध्यम से दूसरे बैंक अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करने के लिए इस्तेमाल में लाया जाता है। ईसीएस का प्रयोग बैंक संबंधित कार्य तथा अन्य डिजिटल भुगतान के लिए भी किया जाता है। ईसीएस प्रणाली को भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा स्थापित किया गया था। यह प्रणाली डिजिटल रूप से लेनदेन के लिए इस्तेमाल की जाती है।

ECS कितने प्रकार (Type) की है?

ईसीएस प्रणाली निम्नलिखित दो प्रकार (Type) की होती है-:

  • ECS Debit

जब कोई खाताधारक बैंक से लोन लेता है तो उसे लोन की हर महीने की किस्त के लिए बैंक जाकर चेक कटवाने पढ़ते थे मगर ईसीएस डेबिट प्रणाली के आने से यह सारे झंझट खत्म हो गए।

ईसीएस डेबिट प्रणाली खाताधारक को बैंक से लोन लेने पर तथा उसकी हर महीने की किस्त को ऑनलाइन भुगतान करने की सुविधा देती है। खाताधारक को केवल अपने बैंक अकाउंट में किश्त की रकम रखनी होती है तथा ECS Debit प्रणाली के द्वारा लोन की किस्त का भुगतान हो जाता है।

इसमें व्यक्ति के समय की बचत होती है तथा बैंक संबंधी पेपर वर्क जैसी समस्या भी समाप्त हो जाते हैं एवं तेजी से कम समय में बैंक ईएमआई का भुगतान हो जाता है।

  • ECS Credit

किसी भी खाताधारक के बैंक अकाउंट में डिजीटली रूप से किसी संस्था या कंपनी द्वारा पैसे जमा करने की प्रक्रिया ECS Credit कहलाती है। इस प्रक्रिया द्वारा खाताधारक के बैंक अकाउंट में वेतन या किसी भी प्रकार के निवेश से आने वाले लाभ का हिस्सा जमा होता है।

ECS के लिए अप्लाई कैसे करें?

यदि आप ईसीएस प्रणाली का उपयोग करना चाहते हैं तो ईसीएस आवेदन (Apply for ECS) के लिए आपको निम्नलिखित बिंदुओं को फॉलो करना होगा-:

  • सबसे पहले आप का सैलरी अकाउंट होना चाहिए और इसके पश्चात ईसीएस प्रणाली की  सुविधा लेने के लिए आपको अपने बैंक को यह सूचित करना होगा।
  • बैंक को सूचित करने के पश्चात आपको बैंक से एक ईसीएस आज्ञा पत्र मिलेगा अतः इस पत्र में पूछी गई सभी जानकारी जैसे आपका नाम, अकाउंट नंबर, ब्रांच का नाम, ब्रांच का पता,  आईएफएससी कोड, आपके हस्ताक्षर आदि को ध्यानपूर्वक भरे।
  • आज्ञा पत्र में आप एक अधिकतम राशि भुगतान की सूचना भी दे सकते हैं।
  • ईसीएस आज्ञा पत्र भरने के बाद उसे संबंधित बैंक अधिकारी को जमा करा दें तथा साथ में फॉर्म में ईसीएस डेबिट और क्रेडिट की जानकारी भी दे।
  • सभी जांच तथा ईसीएस पत्र की पुष्टि के बाद आपको ईसीएस सेवा प्राप्त हो जाएगी तथा इसका पता आपको मोबाइल पर s.m.s. के द्वारा किस आपके अकाउंट से किसी भी प्रकार के लेनदेन की प्रक्रिया के द्वारा होगा।

इस आर्टिकल में हमने आपको ECS से संबंधित सभी जानकारी प्रदान की है।‌ उम्मीद करते हैं आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया होगा। इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ साझा करें।

Latest Post-

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *