IRS Full Form in Hindi-आईआरएस क्या है?

IRS Full Form in Hindi

आज का हमारा आर्टिकल ‘IRS FULL FORM’ है। इसमें हम आपको IRS EXAM क्या है? IRS

EXAM योग्यता और दस्तावेज क्या है? IRS कार्य क्या है? आदि संबंधित जानकारी देंगे।

IRS FULL FORM क्या है?

IRS FULL FORM ‘INDIAN REVENUE SERVICE’ है तथा IRS का हिंदी अर्थ ‘भारतीय राजस्व सेवा’ है।

IRS EXAM क्या है?

भारत सरकार द्वारा राजस्व विभाग में रिक्त पदों पर भर्ती हेतु प्रत्येक वर्ष यूपीएससी द्वारा आईआरएस परीक्षा का आयोजन किया जाता है। इसमें लाखों आवेदक पंजीकरण करवाते हैं तथा इस परीक्षा का पैटर्न भी कठिन है। इसलिए परीक्षार्थियों को कड़ी मेहनत के साथ आईआरएस परीक्षा के सभी पेपर को पास करना होगा। यह पेपर दो भाग प्रिलिमस एवं मेन्स में विभाजित होता है। आईआरएस परीक्षा दोनों भाग के बाद साक्षात्कार रखा जाते हैं तथा यह इस परीक्षा का अंतिम भाग होता है जिसे उत्तीर्ण करना आवश्यक है।

IRS EXAM योग्यता क्या है ?

आईआरएस परीक्षा में आवेदन करने के लिए आवेदकों को निम्नलिखित योग्यताओं को पूरा करना आवश्यक है-:

  • उम्मीदवार भारत का नागरिक होना चाहिए।
  • स्नातक की डिग्री मान्यता प्राप्त संस्थान से संबंधित होनी चाहिए।
  • उम्मीदवार की न्यूनतम आयु 21 वर्ष तथा अधिकतम आयु 32 वर्ष होनी चाहिए।

IRS EXAM DOCUMENT IN HINDI

आईआरएस परीक्षा में आवेदन हेतु उम्मीदवार के पास निम्नलिखित दस्तावेजों का होना आवश्यक है-:

  • आधार कार्ड या वोटर आईडी कार्ड होना अनिवार्य है।
  • निवास प्रमाण पत्र होना आवश्यक है।
  • जाति प्रमाण पत्र होना चाहिए।
  • आयु प्रमाण पत्र होना आवश्यक है।
  • बैंक अकाउंट पासबुक होनी चाहिए।
  • मोबाइल नंबर तथा पासपोर्ट साइज फोटो आवेदन हेतु होनी चाहिए।

IRS के कार्य क्या है?

भारतीय राजस्व सेवा में कार्यरत हर अधिकारी की एक अहम भूमिका है परंतु आईआरएस अधिकारी के कार्यों की भूमिका और जिम्मेदारियों का एक अलग स्थान है। आईए आईआरएस अधिकारी के कार्यों पर‌ नज़र डालें -:

  • भारतीय राजस्व सेवा के अधिकारी आर्थिक सीमाओं के रक्षक अनुरूप कार्य करते हैं। यह केंद्रीय जांच ब्यूरो, अनुसंधान और प्रशिक्षण विंग, खुफिया एजेंसी आदि  पदों पर नियुक्त किए जाते हैं।
  • भारतीय राजस्व सेवा अधिकारी देश में मौजूद घोटालों की जांच करने एवं ऐसे लोगों को जनता के सामने लाकर देश में फैलै भ्रष्टाचार के प्रति जागरूक करना है।
  • आईआरएस अधिकारी देश की सीमावर्ती क्षेत्रों के प्रति कड़ी सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत करते हैं तथा इससे देश में तस्करी मामलों से निपटने का साहस मिलता है।
  • समुद्री जहाज में हो रही तस्करी संबंधी मामलों के लिए यह गुप्त रूप से कार्य करते हैं तथा इसके लिए यह गुप्त जांच एजेंसी के रूप में अभियान चलाते हैं।

Latest Post-


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *