RSS full form in Hindi

RSS full form in Hindi

RSS का पूरा (Full Form) नाम “राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ”यह एक राष्ट्रीय (स्वयंसेवक संघ ) के नाम से जाना जाता है। यह भारत का एक हिन्दू राष्ट्रवादी/अर्धसैनिक/स्वयंसेवक संगठन की रुप रेखा  हैं, जो पूरी तरह से हमारे भारत के सत्तारूढ़ दल (भारतीय जनता पार्टी)  का पैतृक/उत्पन्न संगठन की भावना रखता हैं। इस संघ मैं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अपेक्षा संघ RRS के नाम से ज़्यादा  प्रसिद्ध है। इसको BBC के अनुसार संघ विश्व का सबसे बड़ा स्वयंसेवी संगठन/संस्थान कहा गया  है।

RSS Full Form -आरएसएस क्या है?

आरएसएस से ही हिन्दू समाज मैं अनुशासन के माध्यम से चरित्र प्रशिक्षण प्रदान करता रहा है। इसके अलावा हिन्दू राष्ट्र बनाने के लिए हिंदू समाज/समुदाय को एकजुट बनाए रखना था। RSS संगठन भारतीय समाज मै संस्कृति, एकता, समानता, और नागरिक समाज के मूल्यों को समाज मैं बनाए रखने के आदर्शों को बढ़ावा देने का कार्य करता है। और अधिक मात्रा मैं हिंदू समुदाय को मजबूती प्रदान करने के लिए हिंदुत्व की विचारधारा का प्रचार समाज मे करता है।

RSS एक प्रमुख हिंदू राष्ट्रवादी छाया संगठन में उभरा, हुआ है। यह इसने कई संबद्ध संगठनों को जन्म दिया। जिसके द्वारा कई विचारधाराओं,  को समाज मे इस संगठन के द्वारा फैलाया गया। RSS के द्वारा क्लबों को अपनी वैचारिक मान्यताओं दी गई  हैं।

RSS के तथ्य:-

◆राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ◆

◆स्थापना:-27 सितम्बर 1925

◆संस्थापक:-डॉ॰ केशव बलिराम हेडगेवार

◆प्रकार:-स्वयंसेवी, निःस्वार्थ राष्ट्रभक्ति, अर्धसैनिक

◆मुख्यालय:-नागपुर, महाराष्ट्र, भारत

सदस्यता:-40-80 लाख

 56859शाखाएँ (2016)

महासचिव:-सुरेश ‘भैयाजी’ जोशी

संपर्क सूत:-rss.org/hindi/

RSS की स्थापना:-

इस राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना 27 सितंबर सन् 1925 में विजयादशमी के दिन के दिन हुई थी और इसकी स्थापन डॉ॰ केशव हेडगेवार द्वारा किया गयी थी।

RSS में शामिल की प्रकिया:-

RSS में शामिल होने के लिए बालक की उम्र सीखने की होंनी चाहिए तथा वह समाज के प्रति एक अच्छी सोचा को रखता हो इस संघ से जुड़ने के लिए उसे यह सदस्यता उसके कॉलेज या  स्कूल के माध्यम से मिलती है।

अगर आप इस संघ से जुड़ना चाहते हो तो इसकी शाखा आपको हर क्षेत्र, विभाग, जिले, प्रांत और केंद्र पर मिल जाएगी इसमे सभी स्तर के संघ मंडली की बैठक होती है इसमे कार्यकर्ता व्यायाम/खेल,/सूर्य नमस्कार/समता(परेड), गीत/भजन/ भावआत्मक विचार आदि कार्य  सामिल   है।

RSS के लाभ:-

 RSS में शामिल हो जाते ही व्यक्ति को समाज का सम्पूर्ण ज्ञान हो जाता है वह समाज मैं होने बाली सभी घटनाओं का समाधान भी सीखता हैं हमारे देश और हिन्दू समाज के प्रति बह व्यक्ति अच्छी सोच रखता है

  • इससे आप जाति भेदभाव को भूल जायेंगे।
  • आप सीखेंगे की प्राकृतिक आपदाओं में कैसे लोगों की मदद करे।
  • आपको अपनी महान संस्कृति और इतिहास पर गर्व होगा।
  • अगर आप रोज़ाना RSS शाखा में जा रहे है तो आप रोज़ाना नये लोगों से मिलेंगे।
  • RSS में रोजाना व्यायाम करने से आपका शारीर स्वस्थ रहेगा।
  • RSS में जाने से आप में राष्ट्रवादी और देश भक्ति की भावना जागृत हो जाती है

Latest Post-


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *