SriLanka Ki Rajdhani|श्रीलंका की राजधानी

SriLanka Ki Rajdhani

आज हम आपको श्रीलंका की राजधानी कहां है (SriLanka Ki Rajdhani Kaha hai) से संबंधित जानकारी देंगे।

श्रीलंका भारत के दक्षिण छोर में स्थित है और यह अपनी प्राकृतिक सुंदरता, शिल्प कला और बेहतरीन एवं पर्यटन स्थल के लिए जाना जाता है।

आई विस्तार में जानते हैं कि श्रीलंका की राजधानी कहां है (srilanka ki rajdhani kaha hai) और श्रीलंका से संबंधित अन्य जानकारी भी प्राप्त करेंगे।

Also Read-Rajasthan ki Rajdhani kya hai ?

श्रीलंका की राजधानी

श्रीलंका की राजधानी पूर्व में कोलंबो थी परंतु श्रीलंका की वर्तमान राजधानी जयवर्धनेपुरा कोट्टे (srilanka ki rajdhani jayawardenepura hai) है। श्रीलंका की राजधानी जयवर्धनेपुरा कोट्टे के इतिहास की बात की जाए तो श्रीलंका में शुरू से ही सिंहली साम्राज्य का शासनकाल रहा है और 1505 में जब पुर्तगाल श्रीलंका की राजधानी को हथियाना आए तो उन्हें सिंहली साम्राज्य की ओर से कड़े जवाब मिले।

जब सिंहली साम्राज्य से लड़कर भी पुर्तगाल यहां की राजधानी को अपना नहीं कर सके तो श्रीनगर के पश्चिमी तट पर स्थित कोलंबो को उन्होंने अपनी राजधानी बना लिया। साल 1796 के बाद श्रीनगर में अंग्रेजों का आगमन हुआ और उन्होंने भी कोलंबो को 1815 में श्रीनगर की राजधानी के रूप में स्वीकार किया। 

पुर्तगाली और अंग्रेजों ने कोलंबो को राजधानी इसलिए स्वीकार किया क्योंकि यहां पर बंदरगाह की सुविधा भी थी जिसकी सहायता से शहर में आना-जाना किया जा सकता था।

अंग्रेजों के सालों के शासन के बाद 4 फरवरी 1948 को कोलंबो को अंग्रेजों से आजादी प्राप्त हुई और तब से कोलंबो ही श्रीलंका की राजधानी मानी जाने लगी। परंतु सरकार ने और स्थानीय जनता ने श्रीलंका की पुरानी राजधानी जयवर्धनेपुरा कोट्टे को ही श्रीलंका की राजधानी के रूप में स्वीकार करने के लिए आवाज उठाई और साल 1978 में श्रीलंका की राजधानी पुनः जयवर्धनेपुरा हो गई।

कोलंबो के बारे

वैसे तो श्रीलंका की वर्तमान राजधानी जयवर्धनेपुरा है परंतु कोलंबो भी श्रीलंका के वर्तमान न्यायिक एवं कार्यकारी राजधानी है। कोलंबो ही श्रीलंका का सबसे बड़ा शहर है और श्रीलंका का एकमात्र अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट कोलंबो में ही स्थित है। साल 2021 की गणना के अनुसार कोलंबो की जनसंख्या 6.5 लाख है। कोलंबो श्रीलंका की आर्थिक राजधानी के रूप में भी जानी जाती है तथा श्रीलंका में आर्थिक गतिविधियों से संबंधित सभी कार्य कोलंबो में ही स्थापित किए जाते हैं।

श्रीलंका नामकरण का इतिहास

जब साल 1505 में पुर्तगाली यहां आए थे और उन्होंने श्रीलंका को ढूंढने का प्रयास किया था तो पुर्तगालियों ने श्रीलंका का नाम CEILAO रखा था।

पुर्तगालियों के शासन के बाद जब अंग्रेजों का आगमन श्रीलंका में हुआ तो उन्होंने श्रीलंका का नाम CEYLON रखा था।

जब श्रीलंका से अंग्रेज चले गए तो उसके बाद सरकार ने साल 1972 में इसका नाम लंका रख दिया परंतु कुछ समय बाद साल 1978 में लंका के आगे श्री शब्द जोड़ दिया और तब से ही इसका नाम श्रीलंका पड़ गया।

श्रीलंका की वर्तमान जनसंख्या 2,15, 05, 573 है। श्रीलंका में दो अधिकारिक राज्य भाषा का प्रयोग किया जाता है पहली सिंहली और दूसरी तमिल है। श्रीलंका में ज्यादातर बौद्ध भगवान की पूजा की जाती है।

ऐसे ही राज्यों से संबंधित लेख पढ़ने और जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारी वेबसाइट को फॉलो करें।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *