Cryptocurrency kya hai | क्रिप्टो करेंसी क्या है?

Cryptocurrency kya hai – आज के समय में जहां डिजिटल मनी या फिर ऑनलाइन मनी का फाइनेंशियल मार्केट में कहीं ज्यादा चलन हो चुका है। ऐसे में दूसरे देशों के द्वारा भी ऐसी मुफ्त करंसी का इस्तेमाल किया जाता है,जो  किसी भी प्रकार से  बाध्य  नहीं होता है। इसी कड़ी में आज हम आपको क्रिप्टो करेंसी के बारे में उचित जानकारी देने वाले हैं ताकि आप भी संपूर्ण जानकारी प्राप्त करते हुए इसका सही तरीके से उपयोग कर सकें।

Cryptocurrency kya hai | क्या क्रिप्टो कोर्रेंसी सेफ है?

मुख्य रूप से क्रिप्टो करेंसी आज के समय में डिजिटल करेंसी का दूसरा नाम माना जाता है। जिसका इस्तेमाल हम ज्यादा से ज्यादा इंटरनेट के माध्यम से कर सकते हैं और कई प्रकार की चीजों को खरीदा जा सकता है। ऐसे में हम यह भी देखते हैं कि क्रिप्टो करेंसी के माध्यम से बैंक को भी जानकारी नहीं दी जाती और ऐसे में मुख्य रूप से इसका इस्तेमाल गलत तरीकों के लिए भी किया जाता रहा है जिसके माध्यम से क्रिप्टो करेंसी को सही तरीके से बढ़ावा मिल पाना मुश्किल हो जाता है।

ये भी पढ़े- E-Rupi क्या है?

क्रिप्टो करेंसी के प्रकार:-

क्रिप्टो करेंसी के कुछ मुख्य प्रकार उपलब्ध है जिसके माध्यम से आप  इन्वेस्ट करते हुए ज्यादा से ज्यादा पैसे कमा सकते हैं। यह मुख्य है–

  1.  Ethereum ( ETH) — मुख्य रूप से यह एक प्रकार का कंप्यूटिंग प्लेटफार्म होता है, जो क्रिप्टो करेंसी को कहीं ना कहीं बढ़ावा देते हैं। इस मुख्य प्रकार के करेंसी के फाउंडर का नाम Vitalik Buterin  है। इसका मुख्य रूप से उपयोग डिजिटल टोकन बनाने में किया जाता है जिसका इस्तेमाल करेंसी के रूप में होता है।
  2. Litecoin ( LTC) —-यह भी एक मुख्य क्रिप्टो करेंसी है, जो 2011 में Charles Lee के द्वारा बनाया गया है। अगर इसके ब्लॉक जनरेशन की बात की जाए तो यह अन्य करेंसी की अपेक्षा काफी कम होती है इसके कारण इसका ट्रांजैक्शन बहुत जल्दी पूरा हो जाता है।
  3. Bitcoin ( BTC) — क्रिप्टो करेंसी की श्रेणी में इस करेंसी को सबसे ऊपर रखा जाता है जिसे 2009 में satoshi Nakamoto ने किया था। यह ऐसी डिजिटल करंसी है, जिसका उपयोग आप किसी भी तरीके की सामान खरीदने में ऑनलाइन रूप से इस्तेमाल कर सकते हैं और गवर्नमेंट का इससे किसी भी तरीके से लेना देना नहीं होता है।
  4. Tether ( USDT) — यह मुख्य रूप से बिटकॉइन के टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते हैं जहां पर यूरो में आंकी गई मुद्रा को अस्थिर करार दिया जाता है। ऐसे में इच्छुक लोग ही इस में निवेश करते हैं।
  5.  solana ( SOL) — डिजिटल करेंसी के मामले में इसे काफी बढ़त हासिल हुई है जहां इसने खुद को साबित किया और पीछे नहीं हटे जिससे कई प्रकार से विरोधियों का सामना करना पड़ा फिर भी Solana ने असहमति के बाद भी खुद को साबित किया है।

क्रिप्टो करेंसी के मुख्य लाभ:-

  1. ऐसा माना जाता है कि क्रिप्टोकरंसी ज्यादा सुरक्षित होते हैं और इसमें काम करना फायदेमंद होता है।
  2. क्रिप्टो करेंसी के माध्यम से कभी भी फ्रॉड नहीं हो पाता है और आप सुरक्षित तरीके से डील कर पाते हैं।
  3. इस में बनाए जाने वाले अकाउंट को हमेशा के लिए सिक्योर रखा जा सकता है क्योंकि इसमें हर बार अलग-अलग एल्गोरिदम यूज होता है।
  4. अगर आप क्रिप्टो करेंसी के माध्यम से ट्रांजैक्शन करते हैं, तो बहुत ही कम फीस देना होता है।

क्रिप्टो करेंसी से नुकसान:-

  1. जब भी क्रिप्टो करेंसी में ट्रांजैक्शन किया जाता है, तो हमेशा उसे फिर से प्राप्त करना या रिवर्स करना मुश्किल होता है क्योंकि ऐसा कोई भी ऑप्शन नहीं होता है।
  2. किसी कारणवश अगर आपके क्रिप्टो करेंसी का आईडी खो जाए तो फिर दोबारा प्राप्त करना मुश्किल होता है। ऐसे में सोच समझकर ही क्रिप्टोकरंसी का उपयोग करना होगा ताकि नुकसान ना हो पाए।

Leave a Comment

Your email address will not be published.